राजस्थान के मन्दिर व देवालय Online Study

   

            ■  राजस्थान के प्रमुख मंदिर  ■

           
Rajasthan ke mandhir,  राजस्थान के मन्दिर,  rajasthan gk
Temple of rajasthan 
       

भारत में राजस्थान के मंदिरों का महत्व एक अलग ही स्थान रखता है आइए जानते हैं राजस्थान के कुछ मंदिरों को एवं उनके बारे में कुछ खास बातें



1. ब्रह्मा मंदिर  ( अजमेर  )


● पुष्कर मैं स्थित यह मंदिर विश्व का सबसे प्रसिद्ध ब्रह्मा मंदिर माना जाता है

● इस मंदिर की स्थापना 14 शताब्दी में की गई जो विश्व में ब्रह्मा जी का एकमात्र मंदिर है



2. सावित्री मंदिर  (   अजमेर   )


● पुष्कर के दक्षिण में रत्नागिरी पर्वत पर ब्रह्मा जी की पत्नी सावित्री का मंदिर है जो प्रसिद्ध



3. जैन मंदिर  (  अलवर   )


● यह 8वें जैन तीर्थंकर  भगवान चंद्रप्रभु का विशाल मंदिर है



4. आर्थूणा  के मंदिर   (  बांसवाड़ा  )


● इस मंदिर का निर्माण वागड़  के परमार राजाओं द्वारा 11 वीं से 12 वीं शताब्दी के बीच किया गया



5. भण्डदेवरा शिव मंदिर   (   बाराॅ   )


● इस मंदिर को हाड़ोती का खजुराहो भी कहा जाता है इस मंदिर का निर्माण 10 वीं शताब्दी में मेदवंशीय  राजा मलयवर्मा द्वारा किया गया


● इसे "राजस्थान का मिनी खजुराहो" भी कहते हैं



6. श्री रणछोड़रायजी का खेड़ मंदिर (बाड़मेर )

              
Rajasthan ke mandhir in hindi , rajasthan ke mandhir,  mandhir
Rajasthan ke mandhir
● यह प्रमुख वैष्णव तीर्थ एवं हिंदुओं का पवित्र धाम है


7. किराडू के मंदिर   (  बाड़मेर  )


● बाड़मेर के हाथमा गांव के निकट एक पहाड़ी के नीचे स्थित किराडू 10वीं व 11वीं शती के विष्णु व शिव मंदिरों के लिए प्रसिद्ध है



8. गंगा मंदिर  (   भरतपुर  )


● इस मंदिर का निर्माण महाराजा बलवंत सिंह द्वारा बंसी पहाड़पुर के लाल पत्थरों से निर्मित करवाया गया



9. सवाई भोज मंदिर (  भीलवाड़ा   )


● यह आंशिद में खारी नदी के तट पर स्थित लगभग 11 सौ वर्ष पुराना देवनारायण मंदिर है


● यह मंदिर गुर्जर जाति के लोगों के लिए विशेष श्रद्धा का केंद्र है



10. करणी मंदिर  ( बीकानेर )


● देशनोक स्थित करणी माता का यह मंदिर अपने स्थापत्य कला एवं चूहों के लिए प्रसिद्ध है



11. बिजासण माता का मंदिर ( बूंदी )


● इस मंदिर को इंदरगढ़ माता का मंदिर भी कहते हैं

                
Rajasthan ke mandhir, temple of rajasthan in hindi ,rajasthan gk
Temple of rajasthan in hindi 

12. समीद्धेश्वर मंदिर (  चित्तौड़गढ़  )


● इस मंदिर का निर्माण 1011 ईस्वी से 1055 ईसवी के बीच मालवा के परमार राजा भोज ने करवाया था



13. सालासर बालाजी (  चुरू )


● यह मंदिर सालासर में स्थित हनुमान जी का प्रसिद्ध मंदिर है



14. मेहंदीपुर बालाजी (  दौसा  )


● बालाजी का यह प्रसिद्ध मंदिर सिकंदरा से महुआ के बीच स्थित है


● दो पहाड़ियों के बीच में स्थित होने के कारण से "घाटा मेहंदीपुर" भी कहते हैं



15. देव सोमनाथ का मंदिर ( डूंगरपुर )


● यह प्राचीन शिव मंदिर सोम नदी के किनारे स्थित है


16. गवरी बाई का मंदिर 


● बांगड़ की मीरा गवरी बाई का मंदिर डूंगरपुर में महारावल शिव सिंह ने निर्मित करवाया



17. शाकंभरी माता का मंदिर (  जयपुर )


● सांभर में स्थित प्रसिद्ध मंदिर


● इस मंदिर को चौहानों की कुलदेवी मानते हैं


18. जगत शिरोमणि मंदिर


● इस मंदिर का निर्माण राजा मानसिंह प्रथम की रानी कनकावती ने अपने पुत्र जगत सिंह की याद में करवाया

       
Rajasthan ke mandhir, rajasthan ke mandhir in hindi
Rajasthan ke mandhir in hindi 


19. रामदेवरा ( जैसलमेर )


● पोकरण के निकट रुणिचे कस्बे में बाबा रामदेव का प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है


20. सिरे मंदिर  (  जालौर )


● जालौर में कन्या गिरी पर यह स्थान योगिराज जालंधर नाथ जी की सिद्धि तपोभूमि है


21. शीतलेश्वर महादेव मंदिर (  झालावाड़ )


● इस मंदिर का निर्माण राजा दुर्गण  के सामंत वाप्पक ने विक्रम सवंत 746  में करवाया

● यह मंदिर चंद्रभागा नदी के तट पर स्थित है

● यह देवालय राजस्थान की तिथियुक्त देवालय में सबसे प्राचीन माना जाता है


22. झालरापाटन का वैष्णव मंदिर 


● इस मंदिर को "सात सहेलियों का मंदिर" भी कहते हैं

● कर्नल टॉड ने इसे "चारभुजा का मंदिर" कहां है

● यह मंदिर कच्छपघात शैली का  है


23. चांदखेड़ी का जैन मंदिर


● झालावाड़ के खानपुर में यह एक प्राचीन जैन मंदिर है जिसमें आदिनाथ की विशाल प्रतिमा स्थापित है


24. राणी सती का मंदिर (  झुंझुनू )


● राणीसती का वास्तविक नाम नारायणी था जो अग्रवाल जाति की थी


25. सच्चिंया माता का मंदिर ( जोधपुर )


● ओसियां में 11 वीं सदी में निर्मित यह मंदिर हिंदुओं और ओसवालों में समान रूप से पूजा जाता है


26. महामंदिर


● यह नाथ संप्रदाय का प्रमुख तीर्थ स्थल है इस मंदिर का निर्माण जोधपुर नरेश महाराजा मानसिंह 1812 में करवाया था

● यह 84 खंभों पर निर्मित भव्य मंदिर है


27. मदन मोहन जी का मंदिर  (  करौली  )


● यह मंदिर माधवी गौड़ीय संप्रदाय का मंदिर है


28. मथुराधीश मंदिर (  कोटा  )


● इस मंदिर का निर्माण राजा शिवगण ने करवाया था


29. कंसुआ का शिव मंदिर 


● इस मंदिर का निर्माण आठवीं शताब्दी में करवाया गया

● कण्व ऋषि का आश्रम इसी मंदिर पर था

● यहां सहस्त्र शिवलिंग है


30. चारभुजा नाथ मंदिर (  नागौर )


● इस मंदिर की स्थापना राव दूदा ने की

● यहां मीराबाई संत तुलसीदास रैदास आदि की प्रतिमाएं स्थित है



31. चौमुखा जैन मंदिर ( पाली)


● पाली की देसूरी तहसील में स्थित रण कपूर का चौमुखा जैन मंदिर प्रसिद्ध श्वेतांबर जैन मंदिर है

● यह मंदिर 1444 स्तंभों पर खड़ा है


32. श्रीनाथ जी मंदिर ( राजसमंद )


● नाथद्वारा में स्थित यह वल्लभ संप्रदाय का प्रमुख तीर्थ है



33. गणेश मंदिर  ( सवाई माधोपुर )


● इस मंदिर में त्रिनेत्री गणपति के मात्र मुख की पूजा होती है


34. खाटू श्याम जी का मंदिर  ( सीकर  )


 ● सीकर जिले में खाटू ग्राम में यह तीर्थ स्थान है यहां भगवान कृष्ण के ही स्वरूप श्याम जी का मंदिर


35. जीण माता का मंदिर


● यह मंदिर सीकर के रेवासा ग्राम में स्थित है जो एक पहाड़ी पर बसा हुआ है


36. हर्ष नाथ का मंदिर


● हर्ष की पहाड़ियों पर स्थित इस मंदिर में 10 वीं सदी की लिंगोदभावा मूर्ति में ब्रह्मा व विष्णु की शिवलिंग का अर्थ जानने परिक्रमा करते हुए दिखाया गया है


37. दिलवाड़ा का जैन मंदिर ( सिरोही )


● यह मंदिर 11 से 13 वीं सदी के सोलंकी कला के अद्भुत उदाहरण है

● आबू पर्वत पर दिलवाड़ा में पांच श्वेतांबर मंदिर एवं एक दिगंबर जैन मंदिर है


38. कल्याण जी का मंदिर ( टोंक )


● इस मंदिर का निर्माण मेवाड़ के महाराणा संग्राम सिंह ने करवाया

● यहां विष्णु के चतुर्भुज प्रतिमा है



39. एकलिंग जी का मंदिर ( उदयपुर )



● कैलाशपुरी में स्थित यह मेवाड़ के अधिपति एकलिंग जी का मंदिर

◇ देवल : > जिन स्मृति स्मारकों  में चरण देवताओं की प्रतिष्ठा कर दी जाती है और जिनमें गर्भ ग्रह शिखर  नन्दी  मंडप शिवलिंग बनाया जाता है उन्हें देवल का जाता है


 ♤ प्रसिद्ध नटनी का चबूतरा पिछोला झील पर निर्मित किया गया है













कृपया पोस्ट शेयर करें